Home फीचर बचपन में भीख मांगकर खाता था ये अभिनेता, अमिताभ की वजह से...

बचपन में भीख मांगकर खाता था ये अभिनेता, अमिताभ की वजह से बर्बाद होने वाला था करियर, लेकिन किस्मत से बन गया बड़ा स्टार

175
0

बॉलीवुड सिनेमा में कई ऐसे सितारे हैं जिन्होंने अपने बचपन में गरीबी का सामना किया. ये सितारे कई दिनों तक भूखे-प्यासे सड़कों पर सोए. लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और फिल्म इंडस्ट्री में ऊंचा मुकाम हासिल किया. आज हम आपको एक ऐसे अभिनेता के बारे में बताने जा रहे हैं जो बचपन में भीख मांग कर खाना खाता था. इतना ही नहीं अमिताभ बच्चन की वजह से ही इस अभिनेता का करियर भी बर्बाद होने वाला था. लेकिन किस्मत से यह अभिनेता एक बड़ा स्टार बन गया.

हम जिस अभिनेता की बात कर रहे हैं वो कोई और नहीं बल्कि फिल्मों के जाने-माने वेटरन एक्टर कादर खान है. कादर खान ने फिल्मों में कॉमेडी और विलेन दोनों के किरदार निभाएं. उन्होंने अपने अभिनय करियर में लगभग 300 से ज्यादा फिल्में की और 250 से ज्यादा फिल्मों के डायलॉग भी लिखें. हालांकि कादर खान अब हमारे बीच नहीं है. वो दिसंबर 2018 में इस दुनिया को अलविदा कह गए.

एक इंटरव्यू के दौरान कादर खान ने अपने फिल्मी करियर के बारे में कई बातें बताई थी. कादर खान ने बताया था कि अपने करीबी दोस्त अमिताभ बच्चन को सर जी ना कहने की वजह से उनके हाथों से फिल्में निकल गई थी. कादर खान ने बताया था कि वह अमिताभ बच्चन को अमित कहते थे. कादर खान ने फिल्म इंडस्ट्री में अपनी एक अलग पहचान बनाई. लेकिन उनकी इस कामयाबी के पीछे कड़ा संघर्ष था.

कादर खान से पहले उनकी फैमिली में 3 बेटे हुए, लेकिन उनकी 8 साल की उम्र में मौत हो गई. जब खान का जन्म हुआ तो उनकी मां को डर था कि कहीं उनका बेटा भी उनको छोड़कर ना चला जाए. इसलिए वे अफगानिस्तान से भारत में आकर रहने लगी. तभी उनके माता-पिता अलग हो गए. बचपन में कादर खान मस्जिद पर जाकर भीख मांगते थे और उन्हें जो पैसे मिलते थे, उन पैसों से उनके घर का चूल्हा जलता था. कादर खान ने छोटी उम्र में काम करने के बारे में सोचा. लेकिन उनकी मां ने मना कर दिया. उनकी मां चाहती थी कि वो अपनी पढ़ाई करें.

कादर खान का स्कूल में दाखिला करवाया गया. लेकिन बचपन से ही कादर खान को एक्टिंग का शौक था. कादर खान कब्रों के बीच बैठकर खुद से बातें करते और फिल्म के डायलॉग बोलते थे. एक दिन एक शख्स पास खड़े होकर कादर खान को देख रहे थे. वो शख्स थे अशरफ खान. उस वक्त उन्हें अपने नाटक के लिए एक बच्चे की जरूरत थी और उन्होंने कादर को नाटक में काम दिया. एक दिन कॉलेज में कादर खान को दिलीप कुमार का फोन आया. दिलीप कुमार ने उनका पले देखने की इच्छा जताई. कादर ने दिलीप कुमार के सामने दो शर्ते रखी. कादर खान का प्ले दखकर दिलीप कुमार काफी खुश हुए और उन्होंने फिल्मों में उन्हें साइन कर लिया. आज भले ही कादर खान हमारे बीच नहीं है, लेकिन आज भी वे हमारे दिलों में जिंदा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here