बिहार में 24 से 28 दिसंबर तक 22 ट्रेनें रहेगी रद्द तो कई ट्रेनों बदले रूट से चलेंगी, देखिये लिस्ट!

बिहार में सोनपुर रेल मंडल के कुरसेला व कोसी ब्लॉक हट में नॉन-इंटरलॉकिंग काम से 24 से 28 दिसंबर के बीच 22 ट्रेनों का परिचालन अलग-अलग तारीख में रद्द किया गया है. इसके अलावा कई ट्रेनों का मार्ग बदला गया है. कटिहार-पटना और पटना-कटिहार 26 दिसंबर को रद्द रहेगी. वहीं बिलासपुर मंडल में नॉन इंटरलॉकिंग कार्य के कारण पटना-बिलासपुर ट्रेन 26 दिसंबर व बिलासपुर-पटना ट्रेन 24 दिसंबर को रद्द रहेगी. पूमरे के मुख्य जनसंपर्क पदाधिकारी राजेश कुमार ने जानकारी दी.

परिवर्तित मार्ग से चलने वाली ट्रेन

25 दिसंबर को 12424 नयी दिल्ली-डिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस परिवर्तित मार्ग वाया दानापुर-पटना-मोकामा-किउल-मालदा टाउन के रास्ते, 24 दिसंबर को 15635 ओखा-गुवाहाटी एक्सप्रेस मोकामा-किउल-मालदा टाउन व 26 दिसंबर को 15715 किशनगंज-अजमेर एक्सप्रेस मालदा टाउन-किउल-पटना-पाटलिपुत्र-परमानंदपुर के रास्ते जायेगी.

दोहरीकरण काम से ट्रेनों के परिचालन में कल बदलाव

सोनपुर मंडल के हाजीपुर -चकमकरंद स्टेशन के बीच हाजीपुर-बछवारा दोहरीकरण के कारण 23 दिसंबर को पाटलीपुत्र से खुलने वाली गाड़ी संख्या 13206 पाटलीपुत्र-सहरसा एक्सप्रेस व गाड़ी संख्या 13106 बलिया-सियालदह एक्सप्रेस परिवर्तित मार्ग वाया हाजीपुर-मुजफ्फरपुर-समस्तीपुर-बरौनी होकर चलेगी.

22 दिसंबर को आनंद विहार से खुलने वाली गाड़ी संख्या 20502 आनंद विहार-अगरतला राजधानी एक्सप्रेस दानापुर-पटना-मोकामा-न्यू बरौनी जंक्शन होकर चलेगी.यह ट्रेन पाटलिपुत्र के बजाय पटना जंक्शन पर रुकेगी. वहीं, 23 दिसंबर को पटना से खुलने वाली गाड़ी संख्या 03284 पटना-बरौनी मेमू पैसेंजर का आंशिक समापन व गाड़ी संख्या 03283 बरौनी-पटना मेमू पैसेंजर का आंशिक प्रारंभ हाजीपुर से होगा.

हावड़ा-अमृतसर एक्सप्रेस रहेगी रद्द

किसान आंदोलन के कारण बुधवार को हावड़ा से प्रस्थान करने वाली 13005 हावड़ा-अमृतसर एक्सप्रेस व 23 दिसंबर को 13151 कोलकाता-जम्मूतवी एक्सप्रेस रद्द रहेगी. बुधवार को 13152 जममूतवी-कोलकाता एक्सप्रेस का आंशिक प्रारंभ सहारनपुर से व 12204 अमृतसर-सहरसा एक्सप्रेस का आंशिक प्रारंभ नयी दिल्ली से होगा.

सर्दी बढ़ने के साथ ही कुहासे के कारण भी आनेवाले दिनों में ट्रेनों की रफ्तार में कमी आयेगी. कुहासे के कारण हर साल कई ट्रेनों को रद्द किया जाता है और कई ट्रेनों की यात्रा अवधि बढ़ा दी जाती है. ऐसे में यह माना जा रहा है कि इन तकनीकी कार्यों के पूरे होने के उपरांत भी सभी ट्रेनों का परिचालन सामान्य तरीके से शायद ही संभव हो पाये.

Leave a Reply

Your email address will not be published.