बिहार में अचानक क्यों बढ़ गया इतना ठंड, जानिए मौसम विज्ञानियों ने बताई ये वजह

पछुआ की गति में तेजी आने से पटना सहित पूरे बिहार के न्यूनतम तापमान में भारी गिरावट दर्ज की गई है। राजधानी का न्यूनतम तापमान रविवार को छह डिग्री सेल्सियस लुढ़क गया। शनिवार को 14.2 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया था, जो रविवार को गिरकर 7.6 डिग्री सेल्सियस पर आ गया। वहीं, अधिकतम तापमान 2.8 डिग्री गिरकर 20.6 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। राज्य का सर्वाधिक ठंडा स्थान गया रहा, जहां का न्यूनतम तापमान 5.3 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। मौसम विभाग की मानें तो अगले तीन दिनों तक पछुआ हवा चलती रहेगी। राज्य के कई इलाको में कोहरा एवं धुंध का भी प्रभाव रहा। खासकर उत्तरी बिहार के कई जिलों में धुंध का प्रभाव देखा गया।

पटना मौसम विज्ञान केन्द्र के विज्ञानी संजय कुमार का कहना है कि वर्तमान में पछुआ की गति काफी तेज हो गई है। पछुआ अपने साथ काफी मात्रा में नमी ला रही है, जिससे कनकनी बढ़ गई है। विशेषज्ञों का कहना है कि पश्चिम से आने वाली हवा जब देश के पर्वतीय इलाके से गुजरती है तो काफी ठंडी हो जा रही है। वहीं, हवा जब आगे बढ़कर देश के मैदानी भाग में पहुंचती है तो लोगों को ठंड का अहसास कराती है।

शाम चार बजते ही गिरने लगा पारा

रविवार तड़के राजधानी का पारा काफी गिरा हुआ था। राजधानी का आकाश साफ होने के कारण सूर्योदय होते ही धूप अच्छी निकली, लेकिन वातावरण में नमी काफी होने से लोगों को राहत नहीं मिल रही थी। शाम चार बजे के बाद ही राजधानी के तापमान में काफी गिरावट शुरू हो गई। शाम छह बजे वातावरण में कनकनी बहुत ज्यादा बढ़ गई। लोगों ने घरों के दरवाजे एवं खिड़की आदि बंद कर लिए।

शाम आठ बजे ही बंद हो गए बाजार

वातावरण में काफी कनकनी होने के कारण राजधानी के बाजार शाम आठ बजे ही बंद हो गए। रात नौ से दस बजे तक शहर की सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। पटना की प्रमुख सड़कों पर भी जल्‍दी सन्‍नाटा पसर गया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.