Home अन्य खबरें बिहार STET रिजल्ट में बड़ी धांधली का आरोप, शिक्षक संघ ने कहा.....

बिहार STET रिजल्ट में बड़ी धांधली का आरोप, शिक्षक संघ ने कहा.. कैंडिडेट्स को अंधेरे में रखकर तैयार की गई मेरिट लिस्ट

207
0

सोमवार को बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से एसटीईटी 2019 के पेपर 1 और पेपर 2 का फाइनल रिजल्ट जारी किया गया. रिजल्ट सामने आने के बाद हजारों ऐसे कैंडिडेट्स हैं, जो मेरिट लिस्ट से बाहर हो गए हैं. टीईटी एसटीईटी उतीर्ण नियोजित शिक्षक संघ का आरोप है कि एसटीईटी 2019 के मेरिट लिस्ट में धांधली की गई है. इसमें पारदर्शिता नहीं बरती गई है. प्रदेश अध्यक्ष मार्कण्डेय पाठक का कहना है कि STET परीक्षा में उतीर्ण अभ्यर्थियों को अंधकार में रख कर मेरिट लिस्ट जारी किया गया है.

शिक्षक संघ ने कहा कि बिहार बोर्ड द्वारा जारी रिजल्ट में दो तरीके का रिजल्ट दिख रहा है. एक में अभ्यर्थी उतीर्ण है लेकिन मेरिट लिस्ट से बाहर है जबकि दूसरे में अभ्यर्थी उतीर्ण एवं मेरिट लिस्ट दोनों है.

जबकि 12 मार्च को पहली बार रिजल्ट जारी करते समय शिक्षा मंत्री और अनेकों अवसर पर विभागीय अपर मुख्य सचिव संजय कुमार द्वारा यह कहा गया है कि एसटीईटी परीक्षा में सीट के विरुद्ध ही अभ्यर्थियों को उतीर्ण कराया गया है. इसलिए सबकी नौकरी पक्की है. लेकिन सोमवार को जारी रिजल्ट और मेरिट लिस्ट में ठीक इसके विपरीत हुआ है. हजारों उतीर्ण अभ्यर्थी मेरिट लिस्ट से बाहर हो गए हैं. जब सीट के ही अनुसार रिजल्ट जारी हुआ है तो फिर ऐसा क्यों हुआ है. इससे अभ्यर्थियों में भारी असंतोष और आक्रोश है.

टीईटी एसटीईटी उतीर्ण नियोजित शिक्षक संघ (गोपगुट) के प्रदेश अध्यक्ष मार्कण्डेय पाठक और प्रदेश प्रवक्ता अश्विनी पाण्डेय ने कहा कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने बिना विषयवार, कोटिवार बगैर रिक्ति और उतीर्ण अभ्यर्थियों की संख्या बताये हुए मेरिट लिस्ट कैसी जारी कर दी है. उन्होंने कहा कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति केवल परीक्षा लेने की एक सरकारी एजेंसी है, वो किसी भर्ती प्रक्रिया में बहाली करने और मेरिट लिस्ट जारी करने की अधिकारी नहीं हो सकती. यह काम विभिन्न शिक्षक नियोजन इकाइयों और शिक्षा विभाग का है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here